शिक्षा/कला/संस्कृति/किताबें


  • अगले साल से दिल्ली में भी लगेगा कोलकाता पुस्तक मेला : ममता(19:34)
    कोलकाता, 30 जनवरी (आईएएनएस)| प्रतिष्ठित कोलकाता पुस्तक मेले का एक संस्करण अगले साल से राष्ट्रीय राजधानी में भी आयोजित किया जाएगा। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने यहां सोमवार को मेले के 46वें संस्करण का उद्घाटन करते हुए यह घोषणा की।
  • ममता विश्व भारती विश्वविद्यालय के भूमि विवाद में अमर्त्य सेन के साथ(19:15)
    कोलकाता, 30 जनवरी (आईएएनएस)| विश्व भारती विश्वविद्यालय के कुलपति बिद्युत चक्रवर्ती ने जब नोबेल पुरस्कार विजेता अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन पर बीरभूम जिले के बोलपुर-शांतिनिकेतनमें विश्वविद्यालय की भूमि पर अनधिकृत कब्जा करने का आरोप लगाया, तब पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को सेन का साथ दिया।
  • आईआईटी ने वस्त्र उद्योग के विषैले अपशिष्ट जल के रीयूज की प्रक्रिया विकसित की(15:05)
    नई दिल्ली, 29 जनवरी (आईएएनएस)| वस्त्र उद्योग के अपशिष्ट जल में तरह-तरह के सिंथेटिक रंग पाए जाते हैं जो मनुष्य और पर्यावरण के स्वास्थ्य के लिए खतरनाक होते हैं। इसमें सिंथेटिक डाई भी आसानी से दिख जाती है और यह मनुष्य के स्वास्थ्य के लिए जहर का काम करता है। इसका समाधान ढूंढते हुए आईआईटी जोधपुर के शोधकर्ताओं ने वस्त्र उद्योग के अपशिष्ट जल उपचार और पुन: उपयोग के लिए दो चरण की प्रक्रिया विकसित की है।
  • छात्रों का आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए 'मेंटल मैथ्स क्विज'(14:03)
    नई दिल्ली, 29 जनवरी (आईएएनएस)| दिल्ली के सरकारी स्कूलों में छात्रों का आत्मविश्वास बढ़ाने और उन्हें मानसिक रूप से बेहतर बनाने के लिए मेंटल मैथ्स क्विज की जा रही हैं। इसका उद्देश्य छात्रों को यह बताना भी है कि गणित अन्य सभी विषयों के समान मनोरंजक है।
  • आधुनिक भारत में मुस्कुराएगा निर्धन परिवार का बच्चा : आनंद कुमार(11:42)
    मनोज पाठक
    पटना, 29 जनवरी (आईएएनएस)| चर्चित शिक्षण संस्थान सुपर 30 के संस्थापक आनंद कुमार पद्मश्री पाने वालों की सूची में खुद का नाम पाकर खुश जरूर हैं, लेकिन यह उनके सफर का अंतिम पड़ाव नहीं है। आनंद कहते हैं कि अभी और लम्बा सफर तय करना है। अभी हम सभी निर्धन परिवार से आने वाले मेधावी बच्चों के चेहरे पर मुस्कान नहीं देख पा रहे हैं।
  • दिल्ली विवि में जिन्हें कहा गया 'घोष्ट एंप्लॉयी', अब उन्हीं को समायोजित करने की बात(10:58)
    गणेश भट्ट
    नई दिल्ली, 29 जनवरी (आईएएनएस)| दिल्ली सरकार जिन शिक्षकों और कर्मचारियों को पहले 'घोष्ट एंप्लॉयी' कहती थी, आज उन्ही शिक्षकों को समायोजित करने के लिए दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति को पत्र लिखा जा रहा है। सरकार पर यह आरोप स्वयं दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षक लगा रहे हैं। दिल्ली सरकार से नाराज शिक्षकों का कहना है कि बीते कई महीनों से उन्हें वेतन तक नहीं मिला है। सरकार पहले इस रुके हुए वेतन की व्यवस्था करे, फिर समायोजन की बात करे।
  • जम्मू-कश्मीर पर्यटन ने स्पेन में अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन उत्सव में भाग लिया(01:38)
    श्रीनगर, 28 जनवरी (आईएएनएस)| जम्मू-कश्मीर पर्यटन विभाग मैड्रिड में दुनिया के सबसे बड़े अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन मेलों में से एक फिटूर के पांच दिवसीय 43वें संस्करण में भारत के आधिकारिक पर्यटन प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा है, जिसका उद्घाटन स्पेन के राजा फेलिप श्क ने किया था। अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।
  • भारत में युवाओं का बढ़ता स्क्रीन टाइम चिंताजनक - मोदी(22:46)
    भोपाल, 27 जनवरी (आईएएनएस)| प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी परीक्षा पे चर्चा-2023 के तहत देश भर के विद्यार्थियों, शिक्षकों और उनके अभिभावकों से संवाद किया। मध्य प्रदेश के एक छात्र द्वारा पूछे गए सवाल पर प्रधानमंत्री मोदी ने भारत में युवाओं के बढ़ते स्क्रीन टाइम पर चिंता जताई।
  • स्थायी भर्ती में एडहॉक शिक्षकों को शामिल करने की आवश्यकता: सिसोदिया(20:36)
    नई दिल्ली, 27 जनवरी (आईएएनएस)| दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर योगेश सिंह को पत्र लिखकर दिल्ली के विभिन्न कॉलेजों में सहायक प्रोफेसरों के लिए चल रहे साक्षात्कार के दौरान लगभग 70 प्रतिशत एडहॉक और अस्थायी शिक्षकों के विस्थापन पर चिंता व्यक्त की है। उन्होंने स्थायी भर्ती में एडहॉक शिक्षकों को शामिल करने की आवश्यकता पर जोर दिया है, क्योंकि उनमें से कई दशकों से दिल्ली विश्वविद्यालय के कॉलेजों में पढ़ा रहे हैं। उनके पास विभिन्न बैकग्राउंड के छात्रों के साथ और उनकी शैक्षिक जरूरतों को बेहतर ढंग से पूरा करने का लम्बा अनुभव है।
  • चार महीने से नहीं मिला वेतन, कालेज के प्रोफेसर्स ने फुटपाथ पर किए जूते पॉलिश(18:03)
    नई दिल्ली, 27 जनवरी (आईएएनएस)| बीते चार महीने से वेतन न मिलने से नाराज दिल्ली विश्वविद्यालय के महाराजा अग्रसेन कालेज के अध्यापकों ने फुटपाथ पर जूते पॉलिश कर अपना विरोध जताया है। कालेज के प्रोफेसर्स ने कॉलेज के बाहर ही दिल्ली सरकार के खिलाफ नाराजगी और अपनी आर्थिक स्थिति जताने के लिए लोगों के जूते पॉलिश किए। बड़ी तादाद में छात्रों ने भी शू-पालिश धरने में भागीदारी की। गौरतलब है कि महाराजा अग्रसेन के कालेज का स्टाफ नियमित वेतन न मिलने की समस्याओं से जूझ रहा है।
  • समृद्ध लोकतंत्र के लिए आलोचना एक शुद्धि यंत्र है : पीएम मोदी(12:59)
    नई दिल्ली, 27 जनवरी (आईएएनएस)| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कहना है कि आलोचना लोकतंत्र के लिए शुद्धि यंत्र है। प्रधानमंत्री ने आलोचना को लोकतंत्र की एक शर्त भी बताया। दरअसल 'परीक्षा पे चर्चा' के दौरान कुछ छात्रों ने प्रधानमंत्री से पूछा कि आलोचना को आप कैसे लेते हैं। विपक्ष आपकी निंदा करता है तो आप उसे कैसे लेते हैं। क्योंकि हमें समझ नहीं आता जब हमारी निंदा होती है तो हमें क्या करना चाहिए।