मौसम/पर्यावरण/वन्यजीव


  • दो जून तक लू से राहत : आईएमडी(19:06)
    नई दिल्ली, 28 मई (आईएएनएस)| पिछले कुछ दिनों से दिल्ली और उत्तर भारत के अन्य राज्य भीषण लू का सामना कर रहे हैं। लेकिन भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने गुरुवार को कहा कि शुक्रवार से कुछ राहत मिल सकती है।
  • पौधों के लिए प्रलयंकारी टिड्डी का गहराता प्रकोप(14:52)
    नई दिल्ली, 28 मई (आईएएनएस)| कोरोनावायरस के कहर से उबरने की जद्दोजहद में जुटा भारत के सामने टिड्डी दल के प्रकोप का मुकाबला करने की चुनौती है, क्योंकि हरियाली का यह दुश्मन खरीफ फसलों की बुवाई जोर पकड़ने से पहले देशभर में फैलता जा रहा है। टिड्डी से फसल को नुकसान का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि एक टिड्डी दल में कई करोड़ टिड्डियां होती हैं और एक टिड्डी अपन शरीर के वजन के बराबर का भोजन करती है।
  • पौधों का प्लेग : 60 साल बाद टिड्डियों की दिल्ली पर चढ़ाई का खतरा(21:22)
    प्रमोद कुमार झा
    नई दिल्ली, 27 मई (आईएएनएस)| पाकिस्तान के रास्ते देश की सीमा में प्रवेश करने वाली टिड्डियों की फौज किसी भी समय देश की राजधानी दिल्ली पर चढ़ाई कर सकती है। उसे बस हवा के रुख का इंतजार है। हवा का रुख बदल जाने के कारण बुधवार राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में टिड्डी दल का खतरा टल गया। लेकिन जानकार बताते हैं कि पेड़-पौधों का यह दुश्मन कभी भी धावा बोल सकता है।
  • उत्तराखंड : 'जंगल में भीषण आग की फर्जी खबर फैलाने में विदेशी शामिल' (आईएएनएस विशेष)(19:25)
    संजीव कुमार सिंह चौहान
    देहरादून, 27 मई (आईएएनएस)| 'उत्तराखंड के जंगलों में भीषण आग से तबाही शुरू। उत्तराखंड के जंगलों में फैली आग ने लिया विकराल रूप..' आदि सनसनीखेज खबरें फर्जी हैं। यह सिर्फ राज्य को बदनाम करने की साजिश भर है। जंगल में आग की जो तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं, वे कई साल पुरानी हैं। साथ ही इस फजीर्वाड़े में कुछ विदेशियों के भी शामिल होने की बात निकल कर सामने आ रही है। राज्य पुलिस ने इस तरह की फर्जी अफवाह फैलाने वालों की धरपकड़ के लिए कई टीमें बना दी हैं। जो भी आरोपी पकड़े जाएंगे, उन सभी के खिलाफ मुकदमा कायम करके उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा।
  • उप्र में 60 मिनट में 52 चमगादड़ों की अचानक हुई मौत(11:19)
    गोरखपुर, 27 मई (आईएएनएस)| यहां के बेलघाट इलाके में मौजूद एक आम के बगीचे में मंगलवार को चारों ओर कई सारे चमगादड़ों को मृत पाया गया, जिसके बाद बाग के मालिक पंकज शाही ने इसकी सूचना वन विभाग के अधिकारियों को दी।