भारत के किसानों की आवाज


  • कृषि कानूनों पर सरकार को अपनी गलती माननी चाहिए : चिदंबरम(14:36)
    नई दिल्ली, 16 जनवरी (आईएएनएस)| सरकार और प्रदर्शनकारी किसानों के बीच नौवें दौर की वार्ता अनिर्णायक समाप्त होने के एक दिन बाद पूर्व वित्त मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी.चिदंबरम ने कहा है कि सरकार को अपनी गलती स्वीकार कर लेना चाहिए।
  • किसानों और सरकार के बीच बैठक जारी, लंच ब्रेक में पहुंचा किसानों का लंगर(14:50)
    नई दिल्ली, 15 जनवरी (आईएएनएस) कृषि कानूनों पर गतिरोध को खत्म करने के लिए प्रदर्शनकारी किसानों के संगठनों और केंद्रीय मंत्रियों के बीच 9वें दौर की वार्ता दिल्ली के विज्ञान भवन में चल रही है। इस बीच जब दोपहर के भोजन का समय हुआ तो दिल्ली सिख गुरुद्वारा मैनेजमेंट कमिटी की ओर से किसान नेताओं के लिए में लंगर भेजा गया।
  • राहुल, प्रियंका कृषि कानूनों के विरोध में कांग्रेस मार्च में शामिल हुए(14:34)
    नई दिल्ली, 15 जनवरी (आईएएनएस)| कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी और पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी शुक्रवार को विरोध प्रदर्शन करने वाले किसानों के प्रति एकजुटता दिखाने के लिए यहां एक विरोध मार्च में शामिल हुए और कार्यकर्ताओं के साथ राज निवास की ओर कूच किया, जहां दिल्ली के उप राज्यपाल का कार्यालय और आवास है।
  • किसान आंदोलन का 51वां दिन : सरकार के साथ नौवें दौर की वार्ता आज(09:34)
    नई दिल्ली, 15 जनवरी (आईएएनएस)| किसान आंदोलन का शुक्रवार को 51वां दिन है। तीन नये कृषि कानूनों को निरस्त करने और न्यूतम समर्थन मूल्य पर (एमएसपी) पर फसलों की खरीद की कानूनी गारंटी की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे किसानों के प्रतिनिधि आज फिर केंद्रीय मंत्रियों के साथ वार्ता के लिए विज्ञान भवन जा रहे है, जहां मध्याह्न् 12 बजे वार्ता शुरू होगी।
  • सरकार 5 साल चल सकती है, तो आंदोलन क्यों नहीं : राकेश टिकैत(13:04)
    गाजीपुर बॉर्डर (नई दिल्ली/उप्र), 14 जनवरी (आईएएनएस)| किसान आंदोलन के 50वें दिन गाजीपुर बॉर्डर पर भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने आईएएनएस से कहा कि जब सरकार पांच साल चल सकती है तो आंदोलन क्यों नहीं। उन्होंने ये भी कहा कि गणतंत्र दिवस पर होने वाले कार्यक्रम के लिए तिरंगा आना भी शुरू हो गया है।
  • किसान आंदोन का 50वां दिन : घने कोहरे के बीच दिल्ली की सीमाओं पर डटे प्रदर्शनकारी(12:15)
    नई दिल्ली, 14 जनवरी (आईएएनएस)| केंद्र सरकार द्वारा लागू तीन कृषि कानूनों के विरोध में किसान के आंदोलन का गुरुवार को 50वां दिन है। उत्तर भारत में सर्दी के सितम और घने कोहरे के बीच आंदोलनकारी किसान देश की राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर डटे हुए हैं। उनका कहना है कि जब तक नये कृषि काननू वापस नहीं होंगे तब तक उनका आंदोलन चलता रहेगा।
  • किसानों के मुद्दे पर सरकार ने शीर्ष अदालत को गुमराह किया : कांग्रेस(00:01)
    नई दिल्ली, 13 जनवरी (आईएएनएस)| कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि शीर्ष अदालत ने कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार को गुमराह किया है कि यह विवेचना वर्षों से चल रही है। कांग्रेस ने कहा कि सरकार ने कोर्ट में जो कहा, सच्चाई उसके उलट है और सरकार जो कहती है और जो करती है, उसमें कोई सामंजस्य नहीं है।