• गांधी और बोस : विपरीत विचारों वाले स्वतंत्रता सेनानी(22:54)
    नई दिल्ली, 2 अक्टूबर (आईएएनएस)| यह अनंत पहेली है, एक ऐसी जो अनसुलझा रहस्य बना हुआ है। निश्चित रूप से नेताजी अब मिथक का हिस्सा बन चुके हैं। महात्मा गांधी से अलग उन्होंने अपने लिए एक खतरनाक रास्ता चुना। भारत की स्वतंत्रता की कहानी के चार बड़े नायकों -महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू, सरदार पटेल, मोहम्मद अली जिन्ना- की तरह उन्होंने भी इंग्लैंड में पढ़ाई की थी। लेकिन गांधी का अनुयायी होने के बावजूद वह विद्रोही हो गए, और ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ एक आर्मी बना डाली। इस प्रक्रिया में उन्होंने हिटलर और टोजो से मुलाकात की।
  • स्वच्छ भारत मिशन के अगले संस्करण की घोषणा जल्द होगी(22:21)
    रोहन अग्रवाल
    नई दिल्ली, 2 अक्टूबर (आईएएनएस)| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब 15 अगस्त 2014 को स्वच्छ भारत मिशन की घोषणा की थी, तो इसका उद्देश्य महात्मा गांधी के स्वच्छ भारत के सपने को साकारा करना था। उनकी 150वीं जयंती के मौके पर देश को खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) घोषित करके इस सपने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम बढ़ाया गया है।
  • उप्र : शहीद स्मारक निर्माण के लिए गांधीगिरी(20:45)
    महोबा, 2 अक्टूबर (आईएएनएस)| उत्तर प्रदेश के महोबा जिला मुख्यालय के हवेली दरवाजा में शहीद स्मारक के निर्माण की मांग को लेकर सामाजिक कार्यकर्ता तारा पाटकर ने बुधवार को महात्मा गांधी की वेशभूषा में अन्न-जल त्याग सत्याग्रह शुरू कर दिया। इसी स्थान पर 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में ब्रिटिश हुकूमत ने 16 क्रांतिकारियों को फांसी पर लटका दिया था।
  • गांधी, शास्त्री को उप्र विधान परिषद ने दी श्रद्धांजलि(20:18)
    लखनऊ, 2 अक्टूबर (आईएएनएस)| राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर विधान परिषद के 36 घंटे लगातार चलने वाली कार्यवाही में सदस्यों ने पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को भी श्रद्घासुमन अर्पित किए। इस दौरान विपक्षी दल के लोग शामिल नहीं हुए। भाजपा के सहयोगी अपना दल (एस) ने सदन की कार्यवाही में भाग लिया।
  • रायपुर में गांधी जयंती पर भाजपा, संघ के खिलाफ लगे पोस्टर(18:57)
    रायपुर, 2 अक्टूबर (आईएएनएस)| छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के मौके पर भाजपा नेताओं और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के खिलाफ पोस्टर लगाए गए। इसके विरोध में भाजपा ने प्रदर्शन कर पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई।
  • जिन्ना ने गांधी पर कभी भरोसा नहीं किया!(15:56)
    नई दिल्ली, 2 अक्टूबर (आईएएनएस)| मोहम्मद अली जिन्ना ने कभी भी महात्मा गांधी पर भरोसा नहीं किया, भले ही उन्होंने स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री के रूप में उनके नाम का प्रस्तावित किया था।
  • गांधी की खादी की जोरदार वापसी(15:23)
    रोहन अग्रवाल
    नई दिल्ली, 2 अक्टूबर (आईएएनएस)| बापू का प्रिय कपड़ा खादी मुख्यधारा में वापस आ गया है और कपड़ों के बाजार पर राज कर रहा है। बीच में एक दौर ऐसा भी था, जब खादी को भूला दिया गया था।
  • 'गांधी विचार' के प्रति छात्रों का आकर्षण कम !(09:06)
    मनोज पाठक
    भागलपुर (बिहार), 2 अक्टूबर (आईएएनएस)| देश ही नहीं, पूरी दुनिया को अहिंसा का संदेश देने वाले महात्मा गांधी के विचारों को युवाओं के बीच पहुंचाने के लिए स्थापित बिहार के तिलका मांझी भागलपुर विश्वविद्यालय में 'गांधी विचार विभाग' के प्रति छात्रों का आकर्षण अब होता जा रहा है।
  • जब मॉब लिंचिंग का शिकार होने से बचे थे महात्मा गांधी!(13:44)
    सरोज कुमार
    नई दिल्ली, 29 सितंबर (आईएएनएस)| विवेक जब शून्य हो जाता है, तब व्यक्ति भीड़ का हिस्सा बन जाता है, और ऐसी विवेक-शून्य भीड़ क्या कुछ करती है, आज के इस दौर में यह बताने की जरूरत शायद नहीं रह गई है। आज से सवा सौ साल पहले मोहनदास करमचंद गांधी का ऐसी ही एक भीड़ से सामना दक्षिण अफ्रीका में हुआ था।